Thursday, August 3, 2017

टीवी




एक दिन सहसा जब उमेश देर रात को घर आया तो मैंने देखा तो उसका पाँच साल का बेटा रोहन टी.वी. पर अपने मनपसंद कार्टून देख रहा था। उमेश ने अंदर जाकर उसकी पत्नी निशा से कहा- ''तुमने रोहन को अभी
तक सुलाया क्यों नही?''

"कब से तो कह रही हूँ, लेकिन इस टी.वी. के आगे वह मेरी सुनता ही कहां है? उसने तो आज खाना भी नही खाया।" - निशा ने थोड़ा चिंतित होते हुये कहा।

और अगले दिन दोपहर को रोहन के स्कूल से फोन आया, उसकी टीचर ने बताया की रोहन ने अपना होमवर्क
पिछले कई दिनों से नही किया है, और आजकल वह पढाई पर भी बिल्कुल ध्यान नहीं दे रहा है।

अब उमेश सचमुच चिंतित हो गया था, और मैं उस दिन के बारे मे सोच रहा था जिस दिन मै निशा की जिद की
वजह से अपने घर टी.वी. लाया था। मुझे अपनी भुल का एहसास हो रहा था।


Post a Comment

मेरे मन की

मेरी पहली पुस्तक "मेरे मन की" की प्रिंटींग का काम पूरा हो चुका है | और यह पुस्तक बुक स्टोर पर आ चुकी है| आप सब ऑनलाइन गाथा...